Maalik Mere | Salim Sulaiman | Raj Pandit

Maalik Mere | Salim Sulaiman | Raj Pandit – Salim Merchant, Raj Pandit, Salman Ali, Vipul Mehta Lyrics

Singer Salim Merchant, Raj Pandit, Salman Ali, Vipul Mehta
Singer Salim – Sulaiman
Music Salim – Sulaiman
Song Writer Kamal Haji
मालिक मेरे तेरे बंदे हैं हम Lyrics in Hindi – Sulaiman Ali
अल्हम्दु लिल्लाही रब्बिल आलमीन
अर्राहमान ईर्राहिम

सारी रात मैं, करता रहा
तेरी इबादतें,
मेहफ़ूज हूँ, तेरी राह में,
करना हिफ़ाज़तें,

मैं मुरीद हूँ, खादिम तेरा
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम,

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

अब सीखा दे मुझे, बंदगी का क़रीना,
दिखा दे मुझे, क़ाबा और मदीना,
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

भटका हुआ, बंदा तेरा, कितने किए हैं गुनाह,
अब लौट के, आया है वो, फिर से तू अपना बना,
दिखला दे तू, सिरातल मुस्तक़ीम, दे दे हमे पनाह

सारी रात मैं, गिनता रहा,
तेरी ही नेमतें,
मैं मुरीद हूँ, खादिम तेरा
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

अब सीखा दे मुझे, बंदगी का क़रीना,
दिखा दे मुझे, क़ाबा और मदीना,
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

Maalik Mere Tere Bande Hain Hum Lyrics in English

Alhamdulillahi Rabbil Aalameen
ArRahman Ir Rahim

Saari raat main, karta raha
Teri ibaadatein
Mehfooz hoon, teri raah mein
Karna hifaazatein
Main mureed hoon, khadim tera
Maine ki hai khataa
Toh ho na khafaa
Ab de de shifa

Maalik Mere
Maalik mere
Tere bande hain hum
Kar nazr-e-karam

Maalik Mere
Maalik mere
Tere bande hain hum
Kar nazr-e-karam

Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed
Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed

Ab sikha de mujhe, bandagi ka qarina
Dikha de mujhe, kaaba aur madina
Maine ki hai khataa
Toh ho na khafaa
Ab de de shifa

Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed
Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed

Bhatka Hua, Banda Tera
Kitney Kiye Hain Gunaah
Ab Laut Ke, Aaya Hai Woh
Phir Se Tu Apna Banaa
Dikhlaa De Tu, Siratal Mustaquim
De De Hume Panaah

Sari Raat Main, Ginta Raha
Teri hi Ne’matain
Main mureed hoon, khadim tera
Maine ki hai khataa
Toh ho na khafaa
Ab de de shifa

Maalik Mere
Maalik mere
Tere bande hain hum
Kar nazr-e-karam

Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed
Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed

Ab sikha de mujhe, bandagi ka qarina
Dikha de mujhe, kaaba aur madina
Maine ki hai khataa
Toh ho na khafaa
Ab de de shifa

Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed
Allahumma Salli Ala Muhammadin
Wa Aal-e-Muhammed

Leave a Comment